सहारा इंडिया न्यूज़, निवेशकों के लिए बड़ी खबर Sahara India News Update

Sahara India News Update

sahara india, sahara latest news, sahara india update, sahara india court news, sahara india supeime court news, sahara india high court news, sahara india latest update, sahara india latest, sahara update, sahara update news today, sahara india news today, sahara india ka paisa kab milega, sahara india ki agli sunwai kab hogi, sahara india money refund, sahara india today news update, sahara india

सहारा इंडिया में लगभग देश भर के 12 करोड से ज्यादा निवेशकों के पैसे सारा इंडिया में फंसे हुए हैं। इसे लेकर लोग काफी बार पटना हाई कोर्ट के चक्कर काटे हैं निवेशकों का कहना है हमारा पैसा 5 से 10 वर्ष पहले ही मैच्योरिटी पूरा हो चुका है लेकिन हमारा भुगतान अभी तक नहीं किया गया। ऐसे ना मिलने के कारण हाई कोर्ट में याचिका भी दायर की गई थी सारा के कई स्कीमों में निवेशकों का पैसा निवेश किया गया|

पैसे को ना भुगतान मिलने के कारण हाईकोर्ट में याचिका पर सुनवाई करते हुए सहारा ग्रुप कंपनी के संस्थापक सहारा श्री सुब्रत राय को हाजिर होने का आदेश दिया गया था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा बताया गया कि सहारा प्रमुख सुब्रत राय व्यक्तिगत तौर पर पेश होने को कहा गया इसके बावजूद पटना हाईकोर्ट ने कहा कि अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन किया है अपने अधिकार में रहकर उच्च न्यायालय अपने अधिकार सीमा की उल्लंघन किया है इस पर सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि सहारा प्रमुख सुब्रत राय उस मामले में आरोपी नहीं थे जो पटना उच्च न्यायालय में समझ था। ईश्वर निवेशकों का कहना है हमारा भुगतान जल्द से जल्द वापस किया जाए।

Sahara Latest News Update

Whatsapp Group – Join

सहारा में फंसे हुए पैसे को लेकर न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति सी पी पार्टी वाला पीठ ने कहा कि क्या गलत चलन है जो बढ़ रहा है इसमें बताया गया कि जमानत के लिए दायर याचिका में जांच की जाए जमानत की विचार पर यह अप्रासंगिक है समाज के लिए कैसे प्रासंगिक हो सकता है या तो आप जमानत को खारिज करें या फिर मंजूर कर दे।

अभी पढ़े : सहारा निवेशको को मिली ख़ुशी की खबर, सहारा इंडिया पैसा दे रहा है Sahara India Money Refunds

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दिया था निवेशकों को पैसा वापस नहीं मिलने के कारण महानिदेशक को आदेश दिया गया और यह बोला गया था कि सहाराश्री को अदालत के समक्ष निजी तौर पर उपस्थित होने को कहा जाए पीठ ने सुनवाई के दौरान सारा उच्च न्यायालय को अन्य मुकदमे में आदेश पारित करना चाहिए दंड प्रक्रिया के तहत अधिकार क्षेत्र का इस्तेमाल करना चाहिए।

गिरफ्तारी से बचने के लिए जमानत निर्देश से संबंधित है न्यायमूर्ति एएम खानविलकर ने कहा अपने 22 साल के अनुभव में मैंने ऐसी चीज सीखी है आपके अधिकार क्षेत्र से बाहर है इस पर पीठ कहा हम या नहीं कह रहे हैं कि उच्च न्यायालय ऐसा नहीं कर सकता या अदालत कर सकता है लेकिन अधिकार के तहत।

सहारा का पैसा वापस

सहारा में निवेश की है पैसों को लेकर बिहार में भी सुनवाई चल रही थी और यहां के वकील ने बताया कि उच्च न्यायालय में सहाराश्री को अभियुक्त नहीं बनाया गया है उन्हें योजना पेश करने को कहा गया था आखिरकार निवेशकों का पैसा कैसे लौटेगा उनका भुगतान कैसे हो पाएगा इस पर पीठ ने कहा हम केवल यह कह सकते हैं कि न्यायालय ने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने उच्च न्यायालय मैं अग्रिम जमानत का अनुरोध किया था और अदालत केवल इस मामले पर विचार करना चाहिए था जमात मंजूर करने के लिए कोई प्रथम दृश्यता मामला बनता है या नहीं।

अभी पढ़े : निवेशकों का भुगतान हुआ शुरू, सहारा इंडिया में फंसे पैसे इस तरह निकाले Sahara Latest Update

सुप्रीम कोर्ट द्वारा कहा गया कि यदि इस तरह का आदेश अदालत की ओर से दिया जाता है तो उच्च न्यायालय न्यायाधीश को आड़े हाथों लेते और यहां तक कि उसे न्यायिक अकादमी में जाने की सलाह भी देता सुप्रीम कोर्ट ने मामले में सुनवाई बस स्थगित कर दी है।

Whatsapp Group – Join

Leave a Comment